Monthly Archives: May 2014

भारतीय सेक्युलरिझम सेक्युलर नहीं है

लगभग तीन साल पहेले जब मैं ने एक टीवी खरीदा तब मुझे पता लगा कि, समभाव या स्थितप्रज्ञता का अभ्यास करने के कितने मौके मैं ने अब तक गंवाए थे। शुरुआत के दिनों में समाचार चेनलोंपर चर्चा करनेवाले विशेषज्ञों की बातें एक घंटे के लिये सुनते हुए कितनी तीव्र भावनाओं का तूफ़ान मेरे मन में […]

Indian Secularism is not secular

For years I did not know what opportunities to practice equanimity I had missed, till I finally got a TV set some 3 years ago. In the beginning, I certainly did not remain calm under all circumstances. What intense emotions in just an hour of listening to panelists on the news channels! However, slowly I […]